बल्ब का अविष्कार किसने किया था ? पूरी जानकारी !

दोस्तों आज हम लोग को बल्ब के अविष्कारक के बारे मे जानेंगे कि बल्ब का अविष्कार किसने किया था ? क्या आप लोग ने कभी ये सोचा है की हमारे घरो में जिस बल्ब की से रोशनी होती है! उस बल्ब को इसने कब बनाया है और कैसे बनाया था ? बल्ब के अविष्कारक को जानने के लिए इस लेख को ध्यान से पढ़े !

हम एक ऐसे वैज्ञानिक के बारे में बताने जा रहे है जिन्होंने आपके जीवन में उजियाला लाया हैं ! जिन्होंने अपने मेहनत और लगन से दिन-रात एक करके बल्ब का अविष्कार किया था ! और उन्होंने बल्ब को बनाने में हार नहीं माना तब जाकर वे बल्ब को बना पाए थे ! तभी तो वे दुनिया के महान वैज्ञानिको में शामिल है आइये उनके बारे में अच्छे से जानते हैं !

थॉमस अल्वा एडिसन कौन थे ?

आज हम जिनके बारे में बताने जा रहे है वे महान वैज्ञानिक थॉमस अल्वा एडिसन थे ; जो बल्ब का अविष्कार किये थे बल्ब के आविष्कार के साथ-साथ कई अविष्कार किये थे; मजे की बात तो यह है की थॉमस अल्वा एडिसन को बचपन में लोग पागल समझते थे; क्योकि वे बचपन वे अजीबो गरीबो-हरकत करते थे जिससे लोग उनको पागल कहते थे; पर यही पागल ने बल्ब का अविष्कार किया !

थॉमस अल्वा एडिसन का जन्म –

एडिसन का जन्म 11 फरवरी 1847 में हुआ था; और उनके पिता जी का नाम शमुएल ओगडेन एडिसन और उनके माता का नाम नैंसी मत्ठेव्स ऐल्लित था ! और एडिसन के पत्नी का नाम मीना मिलर था एडिसन के 4 बेटे और एक बेटी थी !

उनको बचपन में पागल इस लिए कहा जाता था; क्योकि वे बचपन में एडिसन ने देखा की चिड़िया कीड़ा खाती है और इसी का कारण से वह उड़ती है फिर एडिसन के दिमाग में कुछ अटपटा विचार आया; वे कुछ कीड़े को इकठ्ठा करके उसका घोल बनाकर अपने दोस्त को पिला दिया ! वे देखना चाहते थे कि उड़ पाता है की नहीं ! घोल पीने के बाद एडिसन के दोस्त बीमार हो गये जिससे उनको बहुत डांट सुननी पड़ी !

एडिसन के पढाई के दौरान की अद्भुत घटना –

एडिसन जब स्कूल जाते थे तो उनका मन स्कूल में नहीं लगता था ! और दिमाग इधर-उधर बहुत लगता था; जिसके कारणवस वे टीचर के बातो पर ध्यान नहीं देते थे ! जिसके वजह से उनको स्कूल से निकाल दिया गया ! उसके बाद एडिसन की माँ ने एडिसन को घर पढ़ाना शरू किया !

बल्ब का अविष्कार कैसे हुआ था ?

दोस्तों क्या आप जानते है की एडिसन ने अपने 15 साल के उम्र में ही अपने घर ही में एक प्रयोगशाला बनाया और जिसमे वे उसी समय से रिसर्च करना शुरू किये ! जिससे एडिसन को लोग पागल समझने लगे पर एडिसन ने इसकी परवाह किया बिना अपने काम में लगे रहें ! एडिसन ने बल्ब को बनाने में इतना व्यस्त हो गए की वे कम से कम सोने लगे और बल्ब बनाते-बनाते एडिसन के लगभग हजार बल्ब असफल हो गए लेकिन वे हार नहीं माने तब जाकर सन,1879 में बल्ब का अविष्कार किया ! और फिर दुनिया को रोशनी से भर दिये !

एडिसन ने बल्ब के आलावा का और भी अविष्कार किये ?

बल्ब के आविष्कार के बाद लोगो ने अपने-अपने कामो में अधिक टाइम दिया जैसे- पढ़ने में खेलने में और अन्य कई कामो में अपना समय अधिक दिया ! और एडिसन के बल्ब के आविष्कार के बाद और बहुत से आविष्कार किये जिनमे से ये कुछ आविष्कार ये है जैसे- बल्ब, चलचित्र टेलीग्राफ माइक्रो फ़ोन जैसी अन्य चीजे शामिल है ! एडिसन के आविष्कार जो दुनिया को तरक्की करने में सहायता किये ! इसी लिए तो एडिसन को जीनियस कहा जाता हैं !

एडिसन की मृत्यु कब हुई ?

दुनिया के महान वैज्ञानिक एडिसन का मृत्यु सन् 1921 में हुई थी ! एडिसन अमेरिका के रहने वाले थे और इन्होनें अमेरिका को बल्ब का आविष्कार करके एक बहुत बड़ा उपहार दिया था; इसी के कारण जिस दिन इनकी मृत्यु हुई थी उस दिन को अमेरिका ने इनके सम्मान में पुरे अमेरिका में लाईट (बल्ब) बंद कर दिय था !ताकि लोग उन्हें याद कर सकें !

Leave a Comment